Kaavyanjali Ek Saprem Bhent............









 

                                                                   

काले घने घुंघराले ये शब्द, दो शब्दकोष से निकाल 
क्योकि इनका बालो की लिए होता है इस्तेमाल !

कभी ये तीनो शब्द मुझे भी बहुत प्रिय थे ,
लगता था की जैसे ये मेरे लिए ही बने थे !

सर पे लहलहाती खेती पे मुझ को था अभिमान ,
मेरी गर्लफ्रेंड को भी मेरे बालो पे था गुमान !

याद है कैसे प्यार से मेरे बालो पे हाथ फेरती थी ,
जलने वालो की नज़र मुझे ही टेरती थी !

हर पार्टी मैं बालो की तारीफ करते थे यार ,
मैं भी क्रीम और जेल लगा के देता नित-नये आकर !

कोई मुझे ऋतिक तो कोई संजय द्त्त पुकारता ,
मैं भी बड़े चाव से अपने बालो को निहारता !

याद है वो मनहूस घड़ी, बुरा हुआ था मेरा हाल ,
जब कंघी करी और देखा झढ़ रहे थे मेरे बॉल !

एक-एक कर लगे थे गिरने, मेरा सर रहे थे छोड़ ,
लग रहा था जैसे जल्दी निकलने की लगी थी उनमे होड़ !

मेरे तो होश उड़ गये तब लोगो से ली राय ,
सोच रहा था किस कम्बख्त की मुझ को लग गयी हाय !

दही, माखन ,शहद, नीबू सब कुछ बालो मैं लगाया ,
पर कुदरत को कुछ और मंजूर था कुछ काम ना आया !

जड़ी-बूटी,दवाई और लगाए कई सारे तेल ,
पर मेरे सर पे लगते ही सभी हो गये फेल !

मेरा तो चेहरा बदल गया और आया नया रूप ,
दूर से ही पहचाना जाता जब सर पे पड़ती धूप !

अपनो ने अनदेखा किया ,गर्लफ्रेंड ने भी छोड़ा 
मुझसे नातातोड़ घने बालो वाले  से नाता जोड़ा! 

शुभचिंतको ने खूब समझाया,कहा ना लो टेंशन,
आज तो हीरो भी सर मुंडा रहे गंजेपन का ही फैशन !

कई गंजे हीरो की दिखा के फोटो मन मेरा बहलाते ,
मुझे ग़ज़नी का आमिर ख़ान बता मुझे खूब फुसलाते !

मैने चंद दिनों में ही अपना सब कुछ खोया ,
कई बार दुखी हुआ अपनी फोटो देख के रोया !

समझ ले प्यारे एक बार जो फसल ये कट जाती ,
लाख कर लो कोशिश ये फिर वापस नही आती !

आओ बताऊ एक बात ,जो मेरे दादी मुझे बतलाती ,
बाहर की काया तो मिट जाती ,मन की सुंदरता ही रह जाती !

Updated: Sep-2010

Email : vishwas@kaavyanjali.com