Kaavyanjali Ek Saprem Bhent............










 

अकस्मात  ही  नज़र  में  आया  एक  पत्र
मजलूम  था  जिसका  कविता  लेखन  ,और  विषय …
विषय  कुछ  और  नहीं , तुम  थी  – कल्पना  !
डोर  से  कटी  पतंग  सी  उन्मुक्त ,
दुनिया  के  बन्धनों ,समाज  के  नियमो  से  अनजान
बावली  सी  जैसे  हवा,
चंचल  सी  जैसे  घटा,
और  मस्त-मौला  जैसे  आवारा  बादल
मनो  कह  रही  हो  मुझसे
“मैं  तुम्हे  लिखने   को  विवश  कर  दूंगी”
देखो  तुम  आज  जीत  गयी.
आज  मैं  और  मेरी  लेखनी
स्मृति  पटल  पर  जमी  धुल  झाड
अतीत  के  पृष्ठों  पर
कुछ  अनकहे गीत  खोज  रहे  हैं.... 

सुख  की  शीतल  छाया  हो ,
या  दुःख  के  घने  बादल,
एक  तुम्हारा  साथ  कल्पना,
बना  हर   पल  मेरी  प्रेरणा
तुम्हारे  इन्द्रधनुषी  लोक  में
मिलता  है  एक  निर्बाध  सुकून
तुम्हारे  साथ  होने  का  अहसास ,
देता  स्वप्नों  को  साकार  करने  का  साहस
तुम्ही  तो  जगाती  हो  मेरा  आत्मविश्वास
मेरा  मासूम  स्वर
जो  रुंधा  था  बड़ी  सी  दुनिया  के  शोर  में,
कल्पना  तुम्हारे  छोटे  से  घरोंदे  में
गूँज  उठा  एक  अमीत  राग  बनकर .
मेरी  आत्मा  अतृप्त  हुई  जब
और  डगमगाएं  है  पग  
तुम  आ  जाती  हो  तभी  मुझ
संभालनें सतरंगी  रंगों  से  मेरा  जीवन  सवारने  

शरद  की  शिथिल  हवाओ  में  भी
तुम्हारे  आँचल  ने  दी  मुझे  पनाह
अब  बारी  मेरी  है,
मुझे  मेरा  दायित्व  ज्ञात  है
तुम्हे  कोरी (कल्पना) नहीं  रहने  दूंगा
किसी  अंधकूप  में  खोने  नहीं  दूंगा
तुम्हे  साकार  करने  की  चेष्टा
करता  रहा  हू  और  करता  रहूगा
आखिर  अपना  भविष्य  सवारना है  मुझे
चोरहीं  तिमिर  से  निकल
रौशनी  की  तरफ  बढ़ना  है  मुझे.
कुछ  हासिल  करना  है  मुझे  दुनिया  में
अपने  अस्तित्व  का  अहसास  कराना  है  संसार  को
क्यूकी कल्पना  होती  है  जीतने  के  लिए,
न  की  थक  हार  कर  भूल  जाने  के  लिए

कल्पना  तो  है  एक  सहारा , एक  सच्ची   साथी
उमंगो ,सपनो  और  प्रगति  की  सीढ़ी.
समय की  गतिमान  धारा  से  आगे
धरती  के  जर्रो  से  ऊपर  ले  जाती  है  कल्पना ,
उसकी  दुनिया  में  न  कोई  सीमा  है  न  कोई  पाबन्दी
कठिन  जीवन  यात्रा  भी  न  इसे  थका  पाई .
जब  भी  जीवन  से  प्रशस्त  हुआ  मैं
और  धीमी  पड़ी  है  ये  कुशाग्रता ,
मेरी  कल्पनाओ  ने  झंकझोर  कर  कहा  मुझसे
“सौरभ  तुम  कर  सकते  हो ,मंजिल  दूर  नहीं  ,हार  नहीं  मानो”.
“उठो  और  आसमान  के  अंतहीन  छोर तक ,अपना  वर्चस्व  फैला  लो”
और  मैं  कहता  हू
“ हाँ  मैं  कर  सकता  हू  और  करूगा  अपनी  कल्पनाएँ  साकार”
काश  और  प्रयास  का  समागम  ही  है  भविष्य  का  यथार्थ


Updated:
Mar-2012

Email : vishwas@kaavyanjali.com